Crypto Resistance and Support Levels

क्या हैं क्रिप्टो प्रतिरोध और समर्थन स्तर और ट्रेडिंग में उनका उपयोग कैसे करें

Reading time

अब तक, 2024 में क्रिप्टोकरेंसी बाज़ार रोलरकॉस्टर पर रहा है, जिसमें बिटकॉइन सबसे आगे है क्योंकि फरवरी में केवल एक ही सप्ताह में इसकी कीमत 10% से अधिक बढ़कर 60,000 डॉलर से अधिक हो गई है। बिटकॉइन एक्सचेंज-ट्रेडेड फंड्स (ETF) की उच्च मांग इस रैली को चला रही है, जिसमें 4 बिलियन डॉलर से अधिक का निवेश पहले ही विभिन्न BTC ETF में हो जा चुका है। इसकी विकास क्षमता का फ़ायदा उठाने के लिए ज़्यादा से ज़्यादा ट्रेडर क्रिप्टो की ओर रुख कर रहे हैं।

इन ट्रेडरों द्वारा अपनाई जाने वाली मूलभूत रणनीतियों में से एक है क्रिप्टो प्रतिरोध और समर्थन स्तर का विश्लेषण, जो मूल्य की चालों का विश्लेषण करने के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण रूप में कार्य करता है। ये अक्सर मूल्य बाधाओं के रूप में कार्य करते हैं जिनमें बाज़ार की भावना स्पष्ट रूप से परिलक्षित होती है।

यह लेख इन रणनीतियों के लिए शीर्ष संकेतकों का उपयोग करते हुए, प्रमुख निर्णायक बिंदुओं की गणना करने और इन आवश्यक बाधाओं की पहचान करने के लिए ट्रेडरों द्वारा अपनाए जाने वाले तरीकों का पता लगाएगा।

मुख्य बातें

  1. समर्थन और प्रतिरोध उन पिछली कीमतों से बनते हैं जिन पर खरीदारों या विक्रेताओं ने एसेट के मूल्य को गिरने या और ऊपर बढ़ने से रोका है।
  2. यदि समर्थन स्तर का उल्लंघन किया जाता है तो यह संभावित रूप से प्रतिरोध में बदल सकते हैं, जो बाज़ार की धारणा में बदलाव का संकेत देता है।
  3. मूल्य के मजबूत क्षेत्रों का पता लगाने के लिए ट्रेडर विभिन्न तरीकों, जैसे कि ट्रेंड, MA और Fibonacci के प्रतिस्थापन का उपयोग करते हैं।
  4. विभिन्न संकेतकों के बीच के संगम विश्लेषण को मजबूत कर सकते हैं और ट्रेडरों के लिए अधिक आत्मविश्वासपूर्ण प्रवेश और निकास बिंदु प्रदान कर सकते हैं।

एक समर्थन स्तर क्या होता है?

क्रिप्टो ट्रेडिंग में, समर्थन स्तर की तुलना अक्सर सुरक्षा जाल से की जाती है, मूल्य का ऐसा बिंदु जहाँ खरीदने की दिलचस्पी में बढ़ोतरी एसेट के मूल्य में संभावित गिरावट को रोक देती है।

यह स्तर एक मनोवैज्ञानिक सीमा का प्रतिनिधित्व करता है जहाँ बाज़ार सामूहिक रूप से सहमत होता है कि एसेट का मूल्यांकन कम किया गया है, जो ट्रेडरों को बेचने के बजाय खरीदने के लिए प्रेरित करता है, जिससे कीमत को और अधिक गिरने से रोका जा सकता है।

support levels on a chart

चार्ट पर समर्थन स्तर

ट्रेडर ऐतिहासिक जानकारी की जाँच करते हैं यह निर्धारित करने के लिए कि किसी एसेट ने इससे पहले कहाँ खरीद के दबाव को अत्यधिक अनुभव किया है, जिससे इसे एक निश्चित मूल्य से नीचे गिरने से बचाया जा सके। इन पिछले मूल्य बिंदुओं को मूल्य चार्ट पर समर्थन स्तर को दर्शाने के लिए एक क्षैतिज रेखा के उपयोग से जोड़ा जाता है। यह मूल्य के पिछले निचले स्तर के नीचे एक ऐसी रेखा खींचने के समान है, जो भविष्य के ट्रेडिंग निर्णयों के लिए एक संदर्भ के रूप में कार्य करती है।

समर्थन स्तर की गतिशीलता बदलना

समर्थन स्तरों की गतिशीलता यह निर्देशित करती है कि यदि किसी क्रिप्टोकरेंसी का मूल्य अपने स्थापित स्तर से टूटता है, तो यह स्तर एक नए प्रतिरोध स्तर में बदल सकता है। यह बदलाव बाज़ार की धारणा में बदलाव की एक ऐसी मिसाल देता है, जहाँ जो एक बार एक मंज़िल थी वह अब एक अधिकतम सीमा बन गई है, जो मूल्य की चालों में एक बदली हुई गति का संकेत देती है।

समर्थन स्तरों के पीछे का बाज़ार मनोविज्ञान

इंसानी व्यवहार समर्थन के निर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है, जहाँ राउंड नंबर अक्सर मनोवैज्ञानिक एंकरों के रूप में कार्य करते हैं। ट्रेडर इन राउंड नंबरों की ओर आकर्षित होते हैं, उन्हें एक मील के पत्थर या लक्ष्य के रूप में देखते हैं, जो बदले में बाज़ार मूल्य में मंज़िलों के रूप में इन स्तरों को मजबूत कर सकते हैं।

support and resistance levels on a chart

एक प्रतिरोध स्तर क्या होता है?

क्रिप्टोकरेंसी ट्रेडिंग में, प्रतिरोध स्तर एक सीमा की तरह काम करता है, जो बिक्री के दबाव के कारण किसी एसेट की कीमत के ऊपर की ओर बढ़ने की गति के ऊपर रोक लगाता है। जैसा कि ट्रेडर देखते हैं कि एसेट इन उच्च स्तरों तक पहुँच रहा है, कई लोग अपनी स्थिति का फ़ायदा उठाने, सप्लाई को बढ़ाने और कीमत को आगे बढ़ने से रोकने का विकल्प चुनते हैं। 

ट्रेडिंग में इन महत्वपूर्ण स्तरों को अक्सर चार्ट में पिछले उच्च स्तरों से देखा जाता है, जिन्हें पार करने के लिए एसेट को संघर्ष करना पड़ा था, जिससे यह स्पष्ट तस्वीर सामने आती है कि ट्रेडरों ने पहले किस मूल्य पर सीमा लगाई थी।

resistance levels on a chart

प्रतिरोध के स्तर का सामना करने पर, यदि मूल्य अस्वीकार कर दिया जाता है, तो संभावित गिरावट की आशंका के कारण ट्रेडर एक छोटी पोज़िशन में प्रवेश करने का विकल्प चुन सकते हैं। 

इसके विपरीत, यदि प्रतिरोध स्तर टूट जाता है, तो ट्रेडरों को एक विकल्प चुनना होता है: निरंतर अपट्रेंड की प्रत्याशा में एक लंबी पोज़िशन में प्रवेश करके आक्रामक रूप से ट्रेड करना या फिर रूढ़िवादी रुख अपनाते हुए प्रतिबद्ध होने से पहले नए मिले समर्थन स्तर को टेस्ट करने के लिए प्रतीक्षा करना।

चार्ट पर प्रतिरोध स्तर

प्रतिरोध स्तर की कल्पना करने के लिए, ट्रेडर एक चयनित समय सीमा में उच्चतम चोटियों को जोड़ने वाली एक रेखा खींचते हैं। यह रेखा उन मूल्य बिन्दुओ का प्रतिनिधित्व करती है जिसे क्रिप्टोकरेंसी ने छुआ है, लेकिन कभी पार नहीं किया है। यह रेखा ट्रेडरों के लिए संभावित बिक्री ऑर्डर पर विचार करने के लिए एक संकेत के रूप में कार्य करती है।

प्रतिरोध की व्याख्या

ट्रेडरों के बीच प्रतिरोध स्तर की व्याख्या अलग-अलग हो सकती है, क्योंकि वे इन बिंदुओं की पहचान करने के लिए विभिन्न तकनीकी संकेतकों का उपयोग कर सकते हैं। कुछ लोग राउंड नम्बरों को देख सकते हैं, जो अक्सर बाज़ार के सहभागियों की उन पर ध्यान केंद्रित करने की प्रवृत्ति के कारण मनोवैज्ञानिक बाधाओं के रूप में काम करते हैं, जबकि अन्य लोग चलती औसत यानि मूविंग एवरेज (MA) या ट्रेंडलाइन का उपयोग कर सकते हैं।

प्रतिरोध स्तरों की बदलती गतिशीलता

जब प्रतिरोध स्तर का उल्लंघन होता है, तो यह अक्सर एक समर्थन में बदल जाता है, एक नई “मंजिल” बनाता है जो कीमत को गिरने से बचा सकता है। यह घटना ट्रेंड रिवर्सल का संकेत दे सकती है। प्रतिरोध स्तरों से इस तरह के ब्रेकआउट को ट्रेडरों के लिए उनकी व्यक्तिगत ट्रेडिंग रणनीति और जोखिम उठाने की इच्छा के आधार पर या तो नई पोज़िशन में प्रवेश करने या अपनी मौजूदा पोज़िशन को समायोजित करने के अवसर के रूप में देखा जा सकता है।

प्रतिरोध स्तरों के पीछे का बाज़ार मनोविज्ञान

बाज़ार मनोविज्ञान प्रतिरोध स्तरों की स्थापना को बहुत प्रभावित करता है, जहाँ एंकरिंग जैसी अवधारणाएँ इस बात को प्रभावित करती हैं कि ये स्तर कहाँ बन सकते हैं। 

ट्रेडरों का कुछ मूल्य बिंदुओं पर सामूहिक ध्यान स्वयं-पूर्ण भविष्यवाणियाँ कर सकता है, क्योंकि ये बेचने या मुनाफा कमाने के लक्ष्य बन जाते हैं। प्रतिरोध और समर्थन के मनोवैज्ञानिक आधारों को पहचानने और समझने से ट्रेडरों को जटिल और अक्सर अप्रत्याशित क्रिप्टो बाज़ार से निपटने में बढ़त मिल सकती है।

समर्थन और प्रतिरोध से ट्रेड करने के तरीके

यहाँ बताया गया है कि ट्रेडर इन स्तरों की शक्ति का उपयोग कैसे कर सकते हैं, समर्थन और प्रतिरोध के संबंधित स्तरों को निर्धारित करने के लिए इसके आस-पास रणनीतियाँ बना सकते हैं। 

ट्रेंडलाइन निर्धारित करना

इससे पहले कि ट्रेडर प्रभावी ढंग से रिवर्सल की पहचान कर सकें और उनका उपयोग अपनी रणनीतियों में कर सकें, उन्हें ट्रेंडलाइन स्थापित करनी होगी। एक ट्रेंडलाइन, चाहे ऊपर या नीचे की दिशा का संकेत दे रही हो, एसेट के मूल्य के वर्तमान प्रक्षेपवक्र के लिए संदर्भ प्रदान करती है। इन रेखाओं को खींचकर, एक ट्रेडर सामान्य बाज़ार दिशा की पहचान कर सकता है और ट्रेड में प्रमुख स्तरों की पहचान करने के लिए तैयार हो सकता है।

trendline on a chart

सभी ट्रेडर्स में प्रवृत्ति के विरुद्ध ट्रेड न करना एक आम सलाह है (मतलब जब प्रवृत्ति नीचे की ओर हो तो लंबी पोज़िशन में प्रवेश करना या इसके विपरीत) और ऐसा वैध कारणों से है। इस बात की संभावना है कि बाज़ार की गतिविधियों के प्रवृत्ति से मेल खाने पर मूल्य स्तरों का ज़्यादा सम्मान होगा।

कुछ आवश्यक बातें

प्रमुख स्तरों पर ट्रेडिंग

पारंपरिक ज्ञान सुझाव देता है कि आपको समर्थन पर खरीदना चाहिए और प्रतिरोध पर बेचना चाहिए। हालाँकि, इन क्षेत्रों का सटीक पता लगाना कभी-कभी चुनौतीपूर्ण हो सकता है।

ट्रेडर अक्सर इन क्षेत्रों को परिभाषित करने के लिए कई प्रकार के टूलों का उपयोग करते हैं, जैसे कि MA, जो ज़्यादा स्पष्ट प्रवृत्ति को प्रकट करने के लिए मूल्य डेटा को सुचारू बनाते हैं, और Fib रिट्रेसमेंट स्तर, जो गणितीय रूप से मूल्य की सीमाओं को प्रमुख अनुपातों में विभाजित करते हैं जो अक्सर इन स्तरों के साथ संरेखित होते हैं  

key levels in trading

इन स्तरों के पास उच्च ट्रेडिंग वॉल्यूम उनके महत्व को और अधिक मजबूत कर सकते हैं, जो एसेट के मूल्य के बारे में ट्रेडरों के बीच एक मजबूत सर्वसम्मति का संकेत देते हैं।

समर्थन और प्रतिरोध के लिए सर्वश्रेष्ठ संकेतक

समर्थन और प्रतिरोध फॉर्मूले में महारत हासिल करने की चाह में, ट्रेडरों के पास विभिन्न प्रकार के तकनीकी संकेतक होते हैं जो उन्हें ट्रेड में प्रमुख स्तरों की पहचान करने में महत्वपूर्ण सहायता कर सकते हैं। 

यहाँ अनुभवी ट्रेडरों द्वारा उपयोग किए जाने वाले कुछ सबसे प्रभावी संकेतक दिए गए हैं:

ट्रेंडलाइन

समर्थन के लिए निम्न की एक श्रृंखला या प्रतिरोध के लिए उच्च की एक श्रृंखला को जोड़कर, ट्रेंडलाइन इस बात हो स्पष्ट रूप से प्रदर्शित करती है की बाज़ार की भावना ने ऐतिहासिक रूप से किसी एसेट की कीमत को कुछ बिंदुओं से आगे बढ़ने से रोका है। वे ट्रेडरों को धुरी बिंदुओं की गणना करने में मदद करते हैं जो भविष्य के बाज़ार की चालों को निर्धारित करने में महत्वपूर्ण हैं।

uptrend and downtrend on a chart

Fibonacci रिट्रेसमेंट

एक पसंदीदा उपकरण, Fib रिट्रेसमेंट, इस विचार पर आधारित है कि बाज़ार एक चाल के पूर्वानुमानित हिस्से को वापस ले लेंगे, जिसके बाद वे मूल दिशा में आगे बढ़ना जारी रखेंगे। किसी एसेट के मूल्य के उच्च और निम्न बिंदुओं के बीच इन स्तरों को प्लॉट करके, निवेशक समर्थन और प्रतिरोध रेखाओं पर नज़र रख सकते हैं जो Fibonacci नम्बरों के साथ संरेखित होती हैं।

Fibonacci Retracement

मूविंग एवरेज

यह संकेतक एक निर्दिष्ट अवधि में मूल्य कार्रवाई (price action) को सुचारू करता है, जिससे समग्र प्रवृत्ति का स्पष्ट दृश्य प्राप्त होता है। एक MA गतिशील समर्थन या प्रतिरोध के रूप में कार्य कर सकता है: यदि किसी एसेट का मूल्य चलती औसत यानि मूविंग एवरेज की रेखा पर लगातार उछलता है, तो उस स्तर की एक महत्वपूर्ण स्तर के रूप में पुष्टि की जाती है। MA के लिए समय सीमा जितनी लंबी होगी, ये स्तर उतने ही मजबूत हो सकते हैं।

moving average on a chart

इनके अलावा, मजबूत समर्थन और प्रतिरोध क्षेत्रों की पहचान करने के लिए निम्नलिखित संकेतकों का उपयोग भी व्यापक रूप से किया जाता है:

  • ऑटो Fib: यह समर्थन प्रतिरोध संकेतक स्वचालित रूप से Fibonacci रिट्रेसमेंट को ग्राफिक रूप से बनाता है, जिससे ट्रेडरों का समय बचता है और रिवर्सल क्षेत्रों को निर्धारित करने में सटीकता सुनिश्चित करने में मदद मिलती है।
  • पिवट पॉइंट: इस टूल का उपयोग पिछले ट्रेडिंग सत्र के उच्च, निम्न और समापन मूल्यों के आधार पर धुरी बिंदु (पिवट पॉइंट) की गणना करने के लिए किया जाता है। धुरी बिंदु को स्वयं समर्थन या प्रतिरोध का स्तर माना जा सकता है, जिसके ऊपर और नीचे अतिरिक्त स्तरों की गणना की जाती है।
  • Fibonacci बोलिंगर बैंड: Fibonacci रेश्यो और बोलिंगर बैंड का एक मिश्रण, यह संकेतक समर्थन और प्रतिरोध के विभिन्न स्तर प्रदान करता है और अस्थिर बाज़ारों में विशेष रूप से उपयोगी हो सकता है।.

एकाधिक संकेतकों का उपयोग करना क्यों महत्वपूर्ण है?

यह याद रखना महत्वपूर्ण है कि चाहे ये संकेतक शक्तिशाली हैं, लेकिन ये फूलप्रूफ नहीं हैं। समर्थन और प्रतिरोध के बीच का अंतर कभी-कभी सूक्ष्म होता है, और स्तरों को तोड़ा या पलटाया जा सकता है।

इस प्रकार, ट्रेडर अक्सर अपने विश्लेषण को मजबूत करने के लिए विभिन्न संकेतकों के बीच एक संगम की तलाश करते हैं। उदाहरण के लिए, प्रमुख Fibonacci रिट्रेसमेंट स्तर और MA के साथ मेल खाने वाले समर्थन को संभावित खरीदारी के अवसरों के लिए एक मजबूत क्षेत्र माना जा सकता है। 

इसी तरह, एक प्रतिरोध मूल्य स्तर जो एक महत्वपूर्ण Fibonacci नंबर के साथ संरेखित होता है और एक ट्रेंडलाइन द्वारा प्रबलित होता है, वो बेचने के ऑर्डरों को देने के लिए एक मजबूत उम्मीदवार हो सकता है।

किस रणनीति का उपयोग करें?

समर्थन और प्रतिरोध का संकेतक क्रिप्टो ट्रेडिंगकी आधारशिला है, जो बाज़ार के व्यवहार में एक अमूल्य झलक पेश करता है। यहाँ कुछ रणनीतियाँ दी गई हैं जो इन महत्वपूर्ण संकेतकों का लाभ उठाती हैं:

मजबूत स्तरों के करीब खरीदना

ट्रेडर अक्सर मूल्यों के समर्थन स्तर तक गिरने के दौरान खरीदारी के अवसर तलाशते हैं। खरीदारों की सघनता से चिह्नित यह क्षेत्र बताता है कि एसेट का मूल्यांकन कम किया गया है, जिससे यह एक आकर्षक प्रवेश बिंदु बन गया है। तर्क यह है कि इस स्तर से मूल्य में उछाल आने की उम्मीद है, जिससे एक ट्रेडर के लिए अनुकूल जोखिम-इनाम परिदृश्य उपलब्ध होता है।

प्रतिरोध के निकट बेचना

इसके विपरीत, जब कीमत प्रतिरोध स्तर के करीब पहुँचती है, तो ट्रेडर बेचने या शॉर्ट पोज़िशन को खोलने पर विचार कर सकते हैं। इस स्तर पर विक्रेताओं की बहुतायत इंगित करती है कि बाज़ार एसेट को अधिक मूल्यवान मानता है, और मूल्य ऊपर चढ़ने के लिए संघर्ष कर सकता है। 

यह रणनीति विशेष रूप से तब प्रभावी हो सकती है जब प्राइस एक्शन प्रतिरोध स्तर पर रुकने या पलटने के संकेत दिखता है।

ब्रेकआउट या ब्रेकडाउन

ब्रेकआउट तब होता है जब मूल्य प्रतिरोध स्तर को पार कर जाता है, जो संभावित रूप से एक नए अपट्रेंड की शुरुआत का संकेत देता है। ट्रेडर इसे एक लंबी पोज़िशन में प्रवेश करने के संकेत के रूप में ले सकते हैं। इसी तरह, ब्रेकडाउन तब होता है जब मूल्य समर्थन स्तर से नीचे गिर जाता है, जो डाउनट्रेंड की शुरुआत का संकेत दे सकता है, जो ट्रेडरों को एसेट बेचने या कम करने के लिए प्रेरित कर सकता है। दोनों ही मामलों में, उच्च ट्रेडिंग वॉल्यूम के साथ इस कदम की पुष्टि करना आवश्यक है, जो ब्रेकआउट या ब्रेकडाउन में विश्वसनीयता को बढ़ाता है।

जोखिम प्रबंधन

क्रिप्टो ट्रेडिंग में जोखिम प्रबंधन अभिन्न है, इसलिए हर किसी की ट्रेडिंग रणनीति में इसका कार्यान्वयन होना प्राथमिकता होनी चाहिए। 

उदाहरण के लिए, लंबी पोज़िशन में प्रवेश करते समय स्टॉप-लॉस को समर्थन स्तर के ठीक नीचे रखा जा सकता है, जिससे मूल्य गिरने पर संभावित नुकसान कम हो जाता है। इसके विपरीत, एक छोटी पोज़िशन के लिए स्टॉप-लॉस को प्रतिरोध के ठीक ऊपर सेट किया जा सकता है, मूल्य के अप्रत्याशित रूप से ऊपर बढ़ने की चालों से बचाने के लिए।

उन्नत ट्रेडर गतिशील स्तरों पर भी विचार कर सकते हैं, जहाँ MA जैसे संकेतक मूल्य की बदलती चालों के अनुकूल होते हैं और प्रमुख क्षेत्रों को इंगित करने के लिए अधिक तरल दृष्टिकोण प्रदान कर सकते हैं। प्रमुख बदलावों के बाद, समर्थन और प्रतिरोध की भूमिकाएँ पलट सकती हैं, एक ऐसी अवधारणा जिस पर ट्रेडरों को कार्य करने के लिए हमेशा तैयार रहना चाहिए।

क्रिप्टो ट्रेडिंग के स्तरों की तलाश करते समय क्या याद रखें?

हालाँकि क्रिप्टो प्रतिरोध और समर्थन स्तर/स्तरों से एक मार्गदर्शक के रूप में काम लिया जा सकता है, वे अचूक नहीं हैं। इन स्तरों के आधार पर स्टॉप और लिमिट शामिल करने से जोखिम को प्रबंधित करने में मदद मिल सकती है, लेकिन लंबित ऑर्डर प्रत्याशित मूल्य की चालों का लाभ उठा सकते हैं। सुधारात्मक स्ट्रक्चर, जो मूल्य के इन स्तरों के विरुद्ध उतार-चढ़ाव से उभरते हैं, निवेशकों को शिक्षित निर्णय लेने में भी मदद कर सकते हैं। 

इन रणनीतियों को समझने और लागू करने से ट्रेडिंग या अल्पकालिक निवेश रणनीतिके रिटर्न में सुधार होगा, जिससे समर्थन और प्रतिरोध फॉर्मूला एक ट्रेडर के टूलकिट का महत्वपूर्ण घटक बन जाता है।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQ)

क्या क्रिप्टो में समर्थन और प्रतिरोध संकेतक काम करते हैं?

हाँ, ये स्तर क्रिप्टो के तकनीकी विश्लेषण में उतने ही प्रभावी हो सकते हैं जितने की यह पारंपरिक बज़ारों में होते हैं।

मूल्य के स्तरों को जानने के लिए सबसे अच्छा संकेतक कौन सा है?

सर्वोत्तम मूल्य स्तर संकेतक व्यक्तिगत पसंद और ट्रेडिंग शैली के आधार पर भिन्न हो सकता है। कुछ लोकप्रिय विकल्पों में Fibonacci स्तर, MA और pivot points (धुरी बिंदु) शामिल हैं।

इस रणनीति के लिए कौन सा EMA सर्वोत्तम है?

सर्वोत्तम EMA ट्रेडरों की रणनीति और समय सीमा के आधार पर भिन्न हो सकता है। ट्रेडरों द्वारा उपयोग की जाने वाली MA अवधि की कुछ सामान्य लम्बाईयाँ हैं 9, 21, 50, 100 और 200।

कौन सी समय सीमा सर्वोत्तम है?

मूल्य के स्तरों को खोजने के लिए सही समय सीमा चुनना भी ट्रेडरों की रणनीति और लक्ष्यों पर निर्भर करता है। आम तौर पर, दैनिक या साप्ताहिक चार्ट जैसी लंबी समय सीमा पंद्रह या पाँच मिनट जैसी छोटी समय सीमा की तुलना में मजबूत और ज़्यादा विश्वसनीय क्रिप्टो प्रतिरोध और समर्थन स्तर प्रदान कर सकती है।

पिछले लेख

Benefits of Bitcoin and Ethereum ETF Approvals
बिटकॉइन और एथेरियम ईटीएफ अनुमोदन: क्रिप्टोकरेंसी व्यापारियों के लिए एक गेम-चेंजर
शिक्षा 01.07.2024
Top Solana-Based Meme Coins to Track in 2024
2024 में देखने के लिए 10 सर्वश्रेष्ठ सोलाना मीम सिक्के
शिक्षा 27.06.2024
CBDC vs Stablecoins: Shaping the Future of Payments
CBDC बनाम स्थिर सिक्के: वे भुगतान प्रवृत्तियों को कैसे आकार दे रहे हैं?
शिक्षा 26.06.2024
Crypto vs Fiat Money in Business Operations
क्रिप्टो बनाम फिएट मनी: उनके बिजनेस ऑपरेशन्स में भूमिका का मूल्यांकन
शिक्षा 25.06.2024