Mobile Payment Security Threats & How to Handle Them

मोबाइल पेमेंट संबंधित सुरक्षा & उनसे कैसे निपटें

Reading time

लचीले, तेज़ और सुविधाजनक होने के कारण, मोबाइल पेमेंट ने हमारे वित्तीय लेनदेन के तरीकों को पूरी तरह से बदल कर रख दिया है। हालाँकि, जैसे-जैसे ये समाधान उन्नत होते जा रहे हैं, वैसे-वैसे ही इन आधुनिक लेनदेन के तरीकों की सुरक्षा को लेकर चिंताएं भी बढ़ती जा रही हैं। आधुनिक डिजिटल वास्तविकता में मोबाइल पेमेंट सुरक्षा, ग्राहकों और कंपनियों दोनों के लिए एक महत्वपूर्ण फोकस बिंदु बन गई है। 

इस लेख में हम मोबाइल पेमेंट सुरक्षा मानकों का अवलोकन करेंगे और यह लेख आपको इस डिजिटल युग में अपने लेनदेन को सुरक्षित रखने के 5 तरीकों के बारे में सिखाएगा।

मुख्य बातें

  1. मोबाइल पेमेंट की बढ़ती लोकप्रियता के कारण इनकी सुरक्षा संबंधी चिंताएँ भी बढ़ गई हैं। साइबर अपराधी कमजोरियों का फायदा उठाते हैं, जिससे वित्तीय नुकसान होने के साथ-साथ पहचान की चोरी भी होती है।
  2. मोबाइल पेमेंट की सुरक्षा बढ़ाने के लिए, मजबूत पासवर्ड, टू-फैक्टर ऑथेंटिकेशन, एन्क्रिप्शन, टोकनाइजेशन और बायोमेट्रिक वेरिफिकेशन का उपयोग करें।
  3. विक्रेताओं को वेरीफाई करें, पेमेंट्स की दोबारा जांच करें, व्यक्तिगत डेटा को सुरक्षित रखें, ऐप्स को अपडेट करते रहें और बेहतर सुरक्षा के लिए विश्वसनीय तरीकों का उपयोग करें।

मोबाइल पेमेंट सुरक्षा संबंधित बढ़ते हुए खतरे

निस्संदेह मोबाइल पेमेंट्स के कारण हमारे लेनदेन के तरीके में क्रांतिकारी बदलाव आया है, जिससे हमारा जीवन अधिक सुविधाजनक हो गया है। इसमें कोई आश्चर्य की बात नहीं है कि मोबाइल भुगतान प्लेटफार्मों ने काफी लोकप्रियता हासिल की है।ये चलते-फिरते भुगतान करने, ऑनलाइन सामान खरीदने और यहां तक ​​कि एक बटन को छूने से ही दोस्तों के साथ बिल बांटने जैसी शानदार सुविधाएं प्रदान करते हैं। हालाँकि, इन सुविधाओं के कुछ नकारात्मक परिणाम भी हो सकते हैं क्योंकि साइबर अपराधी मोबाइल पेमेंट प्रणालियों में संभावित कमजोरियों का फायदा उठाने के लिए अपनी रणनीति में लगातार बदलाव लाते रहते हैं और अपनी रणनीतियों को विकसित करते रहते हैं। 

मोबाइल पेमेंट के मामलों में इन सुरक्षा खतरों ने धोखाधड़ी की एक खतरनाक प्रवृत्ति को जन्म दिया है, जिससे उपभोक्ताओं और व्यवसायों के लिए गंभीर जोखिम पैदा हो गया है। मोबाइल ऐप में एक भी सुरक्षा उल्लंघन के दूरगामी परिणाम हो सकते हैं, जिस कारण पर्याप्त वित्तीय नुकसान, व्यक्तिगत जानकारी से छेड़छाड़, पहचान की चोरी हो सकती है और कंपनी की प्रतिष्ठा को भारी नुकसान पहुँच सकता है, जिसके परिणामस्वरूप ग्राहकों का कंपनी से विश्वास उठ सकता है।

मोबाइल पेमेंट ऐप कैसे काम करती हैं

How Mobile Payment App Works

मोबाइल पेमेंट ऐप्स की प्रणाली आपके सेल्युलर फोन का उपयोग करते हुए लेनदेन की प्रक्रिया को सरल बनाने के लिए विकसित की गई है। ये ऐप्स पेमेंट्स को सुरक्षित और सुविधाजनक तरीके से व्यवस्थित करने के लिए कई तकनीकों का उपयोग करती हैं। वे लेनदेन को संसाधित करने के लिए कई रणनीतियों का उपयोग करती हैं, जिनमें नियर फील्ड कम्युनिकेशन (NFC) और QR कोड शामिल हैं।

NFC मोबाइल पेमेंट क्या है? NFC के नाम से जाने जानी वाली तकनीक, पेमेंट का एक सुरक्षित और उपयुक्त तरीका है जो पास के दो उपकरणों के बीच वायरलेस संचार को सक्षम बनाता है। मोबाइल भुगतान के संदर्भ में, NFC तकनीक आपके स्मार्टफोन को एक डिजिटल वॉलेट के रूप में कार्य करने देती है और यह भौतिक नकदी या कार्ड की आवश्यकता के बिना ही लेनदेन को पूरा कर देती है।

NFC के ज़रिए मोबाइल पेमेंट के दौरान आपका स्मार्टफोन रेडियो तरंगों के माध्यम से पॉइंट-ऑफ-सेल टर्मिनल के साथ संचार करता है। जब आप अपना फोन NFC-सक्षम टर्मिनल के पास रखते हैं, तो वायरलेस तरीके से ही लेनदेन के लिए आवश्यक डेटा प्राप्त हो जाता है, और फिर पेमेंट प्रोसेस हो जाती है।

वहीं दूसरी ओर, QR कोड-आधारित पेमेंट में व्यापारी द्वारा दिए गए QR कोड को स्कैन करना शामिल है। आपकी मोबाइल पेमेंट ऐप उस कोड को रीड करती है, और बस एक टैप से आप लेनदेन की पुष्टि कर देते हैं।

मोबाइल पेमेंट की पहला उदाहरण 1997 में सामने आई जब कोका-कोला ने सीमित संख्या में ऐसी वेंडिंग मशीनें लगाईं, जिनसे ग्राहक मोबाइल के ज़रिए खरीदारी कर सकते थे। पेमेंट सेट करने के लिए ग्राहक वेंडिंग मशीन को एक टेक्स्ट भेजता था, और फिर मशीन उनके प्रोडक्ट को निकाल देती थी।

कुछ तेज़ तथ्य

क्या स्मार्टफोन पेमेंट सुरक्षित हैं?

Are Smartphone Payments Secure?

क्रेडिट कार्ड जैसी मानक पेमेंट विधियों में धोखाधड़ी का पता लगाने और उन्हें रोकने के लिए अच्छी तरह से स्थापित तंत्र मौजूद होते हैं। कार्ड चोरी होने की स्थिति में, कार्डधारक इसकी सूचना जारीकर्ता को दे सकता है, जो उस कार्ड को रद्द करके एक नया कार्ड जारी कर सकते हैं। इसके विपरीत, मोबाइल पेमेंट में चोरी के लिए भौतिक कार्ड और सत्यापन के लिए भौतिक हस्ताक्षर की ज़रूरत नहीं होती, जिससे धोखाधड़ी का खतरा बढ़ जाता है।

इससे निपटने के लिए, मोबाइल पेमेंट उद्योग ने विभिन्न सुरक्षा उपाय लागू किए हैं: 

  1. पासवर्ड सुरक्षा – पेमेंट की सुरक्षा के लिए मज़बूत और नियमित रूप से बदले जाने वाले पासवर्ड महत्वपूर्ण हैं। संख्याओं, अक्षरों और प्रतीकों के संयोजन से पासवर्ड की जटिलता बढ़ जाती है, जिससे साइबर अपराधियों के लिए अनुमान लगाना या इन्हें हैक करना अधिक चुनौतीपूर्ण हो जाता है।
  2. टू-फैक्टर ऑथेंटिकेशन – यह विधि मोबाइल पेमेंट को अधिक सुरक्षित बनाती है और खातों तक अवैध पहुंच को प्रभावी ढंग से रोकती है। इसके कारण उपयोगकर्ताओं को पहचान के दो रूप प्रदान करने होंगे: एक पासवर्ड और एक फिंगरप्रिंट या मोबाइल पर भेजा गया कोड।
  3. एन्क्रिप्शन – मोबाइल पेमेंट ऐप्स डेटा को कोड में बदलने के लिए एन्क्रिप्शन का उपयोग करती हैं, जिससे क्रेडिट कार्ड डेटा और व्यक्तिगत विवरण जैसी संवेदनशील जानकारी को अनधिकृत पहुंच से बचाया जाता है। भले ही कोई साइबर अपराधी इस डेटा तक पहुंच प्राप्त करले, लेकिन वह इसे डिकोड नहीं कर पाएगा या इसे उपयोग नहीं कर पाएगा।
  4. टोकनाइज़ेशन – इसका मतलब संवेदनशील डेटा, जैसे क्रेडिट कार्ड नंबर, को टोकन नामक अद्वितीय कोड में बदलने से है। इन टोकन का उपयोग लेनदेन को पूरा करने के लिए किया जाता है, लेकिन इनमें कोई संवेदनशील डेटा नहीं होता है, इस प्रकार हैकर्स को मूल्यवान जानकारी तक पहुंचने और उसका उपयोग करने से रोका जाता है।
  5. बायोमेट्रिक ऑथेंटिकेशन – इसमें शामिल है अद्वितीय भौतिक विशेषताओं, जैसे कि फिंगरप्रिंट या चेहरे की पहचान के माध्यम से उपयोगकर्ताओं की पहचान को सत्यापित करना, यह विधि पारंपरिक पासवर्ड की तुलना में अधिक सुरक्षित है, क्योंकि बायोमेट्रिक जानकारी को दोहराना या चोरी करना काफी चुनौतीपूर्ण होता है।

मोबाइल पेमेंट उद्योग में सुरक्षा मानक

सुरक्षा उपायों के बावजूद भी, धोखेबाज कॉन्टैक्टलेस पेमेंट प्रणालियों का फायदा उठाने के लिए लगातार नई रणनीतियां तैयार करते रहते हैं। इसका मुकाबला करने के लिए, कंपनियों और उपभोक्ताओं दोनों को सतर्क रहना चाहिए और सर्वोत्तम सुरक्षा प्रथाओं का पालन करना चाहिए।

पहला कदम संपर्क जानकारी, व्यवसाय पता और ग्राहक समीक्षाओं की जांच करके विक्रेता की वैधता सुनिश्चित करना होना चाहिए। यदि विक्रेता संदिग्ध लगता है, तो लेन-देन पर पुनर्विचार करें, क्योंकि ऐसे में आपको एक छोटा और साधारण मोबाइल भुगतान भी बहुत महंगा पड़ सकता है। साथ ही, पेमेंट करने से पहले, राशि और प्राप्तकर्ता सहित उसके विवरण की समीक्षा करें। जालसाज़, उपयोगकर्ताओं को धोखा देने के लिए जानकारी में हेरफेर कर सकते हैं या उनमें बदलाव कर सकते हैं। 

व्यक्तिगत जानकारी, जैसे क्रेडिट कार्ड नंबर, का अनुरोध करने वाले किसी भी व्यक्ति को यह जानकारी न दें। मोबाइल पेमेंट ऐप्स को केवल आवश्यक जानकारी का अनुरोध करना चाहिए और उन्हें व्यक्तिगत डेटा को सेव नहीं करना चाहिए। इसके अलावा, ज्ञात सुरक्षा कमजोरियों को दूर करने के लिए मोबाइल पेमेंट ऐप्स और उपकरणों को नवीनतम सुरक्षा पैच और अपडेट भेजते रहना चाहिए। इसके अलावा, आप हमेशाविश्वसनीय भुगतान विधियों और ऐप्स को प्राथमिकता दें, जैसे कि Apple Pay और Google Pay, और आप अपरिचित या असुरक्षित विकल्पों का उपयोग करने से बचें। 

सभी पेमेंट्स की वैधता को सत्यापित करने के लिए नियमित रूप से अपने लेनदेन इतिहास की जांच करते रहें। यदि आप किसी संदिग्ध लेनदेन की पहचान करते हैं, तो इसके बारे में तुरंत अपने भुगतान प्रदाता या बैंक को सूचित करें।

रनटाइम ऐप सेल्फ-प्रोटेक्शन (RASP) के साथ जोखिमों का पता लगाएं

Detect Risks with Runtime App Self-Protection (RASP)

अधिक सुरक्षित महसूस करने के लिए, आप RASP जैसी एप्लिकेशन का उपयोग कर सकते हैं। RASP एक मोबाइल पेमेंट सिक्योरिटी प्रदाता है, जो एक ऐसी तकनीक है जिसे वास्तविक समय में जोखिमों का पता लगाने और उन्हें कम करने के लिए डिज़ाइन किया गया है, और यह मोबाइल पेमेंट सुरक्षा के लिए एक सक्रिय दृष्टिकोण प्रदान करती है।

RASP के प्रमुख मोबाइल पेमेंट सिक्योरिटी सोलुशन

वास्तविक समय में निगरानी – RASP सोलुशन मोबाइल पेमेंट ऐप्स के व्यवहार की लगातार निगरानी करते हैं। ये विसंगतियों या संदिग्ध पैटर्न की तलाश में वास्तविक समय में ऐप गतिविधियों, डेटा प्रवाह और उपयोगकर्ता इंटरैक्शन का विश्लेषण करते हैं। 

व्यवहार विश्लेषण – RASP किसी ऐप और उसके उपयोगकर्ताओं के विशिष्ट व्यवहार को समझने के लिए व्यवहार विश्लेषण का उपयोग करता है। और फिर यह इस आधार रेखा से किसी भी तरह के विचलन के लिए अलर्टस और सुरक्षा उपायों को ट्रिगर कर सकता है। 

तत्काल प्रतिक्रिया – जब RASP किसी संभावित सुरक्षा खतरे या विसंगति की पहचान करता है, तो यह तुरंत ही ऐप और उसके उपयोगकर्ताओं को सुरक्षा प्रदान कर सकता है। इसमें कुछ कार्यों को रोकना, प्रशासकों को सचेत करना या यहां तक ​​कि एक सेशन को समाप्त करना भी शामिल हो सकता है। 

अनुकूलित सुरक्षा – RASP सोलुशन उभरते खतरों के अनुकूल होने के लिए डिज़ाइन किए गए हैं। वे नई आक्रमण तकनीकों से सीख सकते हैं और उनके अनुसार अपने सुरक्षा तंत्र को अपडेट कर सकते हैं।

सुरक्षा रणनीति के हिस्से के रूप में RASP को लागू करने से मोबाइल पेमेंट ऐप्स की सुरक्षा काफी बढ़ सकती है। वास्तविक समय में जोखिमों का पता लगाने और उनका जवाब देकर, RASP उद्योगों और उपभोक्ताओं को आज की डिजिटल वास्तविकता में उभरते खतरों से बचाने में मदद करता है।

अंतिम निष्कर्ष

निस्संदेह, मोबाइल पेमेंट तकनीक के कारण व्यावसायिक लेनदेन काफी सुव्यवस्थित हो गए हैं। हालाँकि, इस डिजिटल परिवर्तन ने धोखाधड़ी के जोखिम को भी बढ़ा दिया है। 

सुरक्षित मोबाइल पेमेंट सुनिश्चित करने के लिए, उपरोक्त सभी सुरक्षा उपायों को लागू करना बहुत महत्वपूर्ण है। इसके अलावा, ग्राहकों और कंपनियों को सर्वोत्तम प्रथाओं का पालन करके, इस अत्याधुनिक अनुभव की सुरक्षा के प्रति सतर्कता बरतनी चाहिए। 

Linkedin

द्वारा लिखित

Anna Churakovaलेखक

पिछले लेख

Getting Ready for The Highly Anticipated FMPS 2024
Bringing Our Payment Solutions To The Finance Magnates Pacific Summit
10.06.2024
Suiting Up For Crypto Discussions at The Massive Token 2049
Token 2049 Singapore is Around The Corner – Here Are Our Plans
10.06.2024
B2BinPay Suits Up for Money Expo India 2024!
B2BinPay is Good to Go at Money Expo India 2024! 
05.06.2024
B2BiPay v20 update
B2BinPay v20 – TRX स्टेकिंग और बेहतर ब्लॉकचेन सपोर्ट के साथ फ़ंक्शनैलिटी में सुधार