Difference Between Crypto and Fiat

क्रिप्टो और फिएट पेमेंट प्रोसेसर के बीच क्या अंतर है?

Reading time

बिटकॉइन भुगतान क्रेडिट कार्ड के सरल और सस्ते विकल्प के रूप में लोकप्रियता हासिल कर रहा है, जिससे व्यवसायों को लाभ हो रहा है। क्रिप्टोकरेंसी की कीमतों में होने वाले उतार-चढाव के बावजूद, विशेषज्ञ आने वाले वर्षों में क्रिप्टोकरेंसी के उपयोग में वृद्धि की भविष्यवाणी कर रहे हैं। हालाँकि, फिएट मुद्रा अभी भी ऑनलाइन और ऑफलाइन भुगतानों के लिए अधिक प्रचलित विकल्प बना हुआ है। 

इस लेख में, हम क्रिप्टो और फिएट पेमेंट प्रोसेसरों के बीच के अंतर के बारे में जानेंगे और जानेंगे कि भुगतान प्रोसेसर कैसे काम करते हैं।

महत्वपूर्ण बिंदु

  1. भुगतान प्रोसेसर, भुगतानों के आदान-प्रदान के प्रबंधन और भुगतानों को अंतिम रूप देने के लिए जिम्मेदार होते हैं।
  2. फिएट पेमेंट प्रोसेसर राष्ट्रीय मुद्राओं में लेनदेन स्वीकार करते हैं और संसाधित करते हैं।
  3. क्रिप्टो पेमेंट प्रोसेसर व्यापारियों को भुगतान के रूप में डिजिटल मुद्रा स्वीकार करने की सुविधा देते हैं।
  4. क्रिप्टो और फिएट पेमेंट प्रोसेसरों के बीच प्रमुख अंतर उनके द्वारा प्रोसेस की जाने वाली मुद्राओं के प्रकार, तीसरे पक्ष की भागीदारी, शुल्क आदि में होते है।

पेमेंट प्रोसेसरों की अवधारणा

एक पेमेंट प्रोसेसर (या गेटवे) एक माध्यम है जो कि कार्ड से होने वाले भुगतानों के आदान-प्रदान के प्रबंधन के लिए जिम्मेदार होता है। यह ग्राहकों के कार्ड डेटा को पेमेंट नेटवर्क और लेनदेन में शामिल बैंकों के बीच स्थानांतरित करता है।

एक पेमेंट प्रोसेसर, कार्ड पेमेंट को अंतिम रूप देने के लिए जिम्मेदार होता है: यह ग्राहक के खाते से व्यापारी के खाते में धन स्थानांतरित करता है।

प्रक्रिया कुछ इस प्रकार होती है:

  1. ग्राहक विभिन्न तरीकों, जैसे स्टोर टर्मिनल, ऑनलाइन पेमेंट पेज, या अन्य तरह के माध्यमों से व्यापारियों को कार्ड की जानकारी प्रदान करते हैं। यह जानकारी भुगतान प्रोसेसर के माध्यम से आगे सबमिट की जाती है।
  2. भुगतान प्रोसेसर इस जानकारी के अप्रूवल के लिए इसे मास्टरकार्ड या वीज़ा जैसे कार्ड नेटवर्क पर भेजकर लेनदेन शुरू करता है।
  3. व्यापारी के साथ लेनदेन स्वीकृत और पूरा होने के बाद, पेमेंट प्रोसेसर ग्राहक के कार्ड जारीकर्ता को व्यापारी के बैंक में धनराशि भेजने के लिए सूचित करता है।
  4. व्यापारी को धन प्राप्त होता है। भुगतान प्रदाता के आधार पर, यह तुरंत या कुछ व्यावसायिक दिनों के भीतर हो सकता है।

भुगतान-पेमेंट सिस्टम व्यापार को बेहद सुविधाजनक बनाते हैं, ई-कॉमर्स व्यापर का समर्थन करते हैं और सम्पूर्ण आर्थिक विकास को बढ़ावा देते हैं। व्यवसाय नकदी के प्रवाह और अन्य वित्तीय कार्यों के प्रबंधन के लिए इन प्रणालियों पर भरोसा करते हैं। एक अच्छी तरह से कार्य करने वाली प्रणाली धोखाधड़ी के जोखिम को भी कम करती है, डेटा सुरक्षा सुनिश्चित करती है, और नियमों और उद्योग मानकों का अनुपालन बनाए रखती है।

कुछ रिपोर्टों के अनुसार, केवल 39% उपभोक्ताओं का ही मानना है कि वस्तुओं और सेवाओं के नियमित भुगतान के लिए क्रिप्टोकरेंसी का उपयोग किया जाना चाहिए।

विशेष तथ्य

क्रिप्टो भुगतान प्रोसेसिंग कैसे होती है

क्रिप्टो भुगतान प्रोसेसर, या गेटवे, एक ऐसी सेवा है जो व्यापारियों को भुगतान के लिए डिजिटल मुद्रा स्वीकार करने की सुविधा देते है। वो भी विभिन्न प्लेटफार्मों, वेबसाइटों, मोबाइल ऐप्स पर और साथ ही ऑफ़लाइन भी। यह सामान्य पेमेंट प्रोसेसर की तरह ही काम करता है, लेकिन फिएट मुद्रा के बजाय डिजिटल मुद्रा का लेनदेन किया जाता है।

क्रिप्टोकरेंसी पेमेंट गेटवे एक सुरक्षित, तेज़ प्रोसेसिंग इंफ्रास्ट्रचर है जो व्यापारियों और प्रदाताओं को क्रिप्टो भुगतान स्वीकार करने में सक्षम बनाता है, जिससे उपयोगकर्ताओं के बीच वॉलेट्स के बीच धन का आदान-प्रदान किया जा सकता है

मर्चेंट सॉफ़्टवेयर तक संवेदनशील वॉलेट-संबंधित डेटा सुरक्षित रूप से पहुंचने के लिए पेमेंट गेटवे बेहद महत्वपूर्ण हैं, जिससे वे अपने मुख्य कार्यों के अलावा लाभदायक, सुरक्षित और तेज़ भुगतान विधियों की तलाश करने वाले व्यवसायों के बीच तेजी से लोकप्रिय हो रहे हैं।

ब्लॉकचेन इकोसिस्टम, जो क्रिप्टो पेमेंट गेटवे का समर्थन करता है, अपरिवर्तनीयता और लेनदेन में पारदर्शिता प्रदान करता है। इसकी डिसेंट्रलाइज़्ड संरचना बैंकों जैसे बिचौलियों को समाप्त करती है, लेनदेन में तेजी लाती है और प्रोसेसिंग आदि जैसी प्रक्रियाओं को कम करती है। जो कि डिजिटल करेंसी के उपयोग और डिसेंट्रलाइज़्ड गेटवे की लोकप्रियता को बढ़ावा देती है।

क्रिप्टोकरेंसी और पारंपरिक बैंकिंग के बीच एक ब्रिज के रूप में कार्य करते हुए, क्रिप्टो पेमेंट गेटवे, क्रिप्टोकरेंसी के माध्यम से लेनदेन करने का एक सरल और सुरक्षित तरीका सुनिश्चित करते हैं।

क्रिप्टो भुगतान प्रसंस्करण कैसे काम करता है नीचे पूरी प्रक्रिया को बताया गया है:

  1. ग्राहक अपनी भुगतान विधि के रूप में क्रिप्टोकरेंसी टोकन का चयन करके शुरुआत करता है।
  2. क्रिप्टो पेमेंट गेटवे लेनदेन के लिए एक विशेष कोड जेनरेट करता है – अल्फ़ान्यूमेरिक करैक्टर्स की एक यूनिक स्ट्रिंग जो कि लेनदेन से जुड़ी होती है।
  3. ग्राहक उस पते पर आवश्यक टोकन भेजता है।
  4. ब्लॉकचेन नेटवर्क लेनदेन का सत्यापन करता है, और क्रिप्टो पेमेंट गेटवे तुरंत टोकन के मूल्य को अमेरिकी डॉलर या यूरो जैसी किसी भी व्यापक रूप से स्वीकृत मुद्रा में परिवर्तित कर देता है, जिससे व्यापारियों को भी क्रिप्टोकरेंसी कन्वर्जन से गुजरना नहीं पड़ता है।
  5. कन्वर्जन के बाद, राशि व्यापारी के खाते में भेज दी जाती है, जो कि उन्हें किसी भी पारंपरिक लेनदेन के भुगतान की तरह ही प्राप्त होता है।
How Crypto Payment Processing Works?

क्रिप्टो पेमेंट गेटवे अपनी डिसेंट्रलाइज़्ड ब्लॉकचेन संरचना के कारण व्यवसायों को न केवल भुगतान विकल्प प्रदान करते है, साथ ही बिक्री बढ़ाने और लेनदेन में पारदर्शिता और सुरक्षा को बढ़ावा देने के अलावा और भी बहुत कुछ प्रदान करते हैं। इन प्रोसेसरों को छोटे, मध्यम और बड़े व्यवसायों द्वारा अपनाया जाता है, जो रिकॉर्ड-कीपिंग सिस्टम को हटाने और डेटा स्टोर करने लागत को भी कम करने की क्षमता प्रदान करते हैं। बाज़ार व्यक्तिगत और ऑनलाइन व्यवसायों को लक्षित करता है, और जैसे-जैसे व्यवसाय क्रिप्टो पेमेंट गेटवे अपनाते हैं, उन्हें एक उछाल देखने को मिल सकती है।

क्रिप्टो पेमेंट प्रोसेसर के फायदे

अधिक से अधिक बैंक, व्यवसाय और उपभोक्ता ब्लॉकचेन के डिस्ट्रिब्यूटेड-लेजर बेस्ड फाइनेंसियल सोलूशन्स के साथ डिजिटल पेमेंट सिस्टम्स को अपनाना शुरू कर रहे हैं। यह क्रांतिकारी सोलूशन्स व्यापारियों को क्रिप्टोकरेंसी का उपयोग करके पेमेंट प्रोसेस करने के लिए सुरक्षित, त्वरित और कॉस्ट-इफेक्टिव तरीके प्रदान करते है। आइए क्रिप्टो पेमेंट प्रोसेसर द्वारा प्रदान किए जाने वाले प्रमुख लाभों के बारे में जानें।

Pros of Crypto Payment Processors
  • लेनदेन की कम लागत – ट्रेडिशनल फाइनेंसियल सिस्टम्स और पेमेंट नेटवर्क में अक्सर कुछ फीस और बिचोलिये शामिल होते हैं, जबकि क्रिप्टो पेमेंट्स बिचौलियों का काम खत्म कर देती है, जिससे व्यापारियों और उपभोक्ताओं के लिए लागत कम हो जाती है। क्रिप्टो पेमेंट प्रोसेसर आमतौर पर बहुत कम लेनदेन शुल्क लेते हैं।
  • उन्नत सुरक्षा और गोपनीयता – क्रिप्टो पेमेंट गेटवे धोखाधड़ी और हैकिंग जैसे जोखिमों को कम करने के लिए ब्लॉकचेन तकनीक की एन्क्रिप्शन और डिसेंट्रलाइजेसन जैसी सुरक्षा सुविधाओं का उपयोग करते हैं। ये पारंपरिक पेमेंट विधियों से अलग, उपयोगकर्ता की अनोनिमिटी भी बनाए रखते हैं, पारंपरिक पेमेंट विधियों में संवेदनशील जानकारी साझा करने की आवश्यकता होती है।
  • धोखाधड़ी में कमी – ब्लॉकचेन तकनीक, जो क्रिप्टोकरेंसी लेनदेन का रिकॉर्ड रखती है और उन्हें सभी प्रतिभागियों के लिए दृश्यमान बनाती है, धोखाधड़ी जैसी गतिविधियों के जोखिम को काफी कम कर देती है, जिससे व्यवसायों को काफी फायदा होता है।
  • वोलैटिलिटी को कम करना- क्रिप्टोकरेंसी अस्थिर हो सकती है, लेकिन ढेरों पेमेंट प्रोसेसर तुरंत कन्वर्जन की पेशकश करते हैं, जिससे व्यापारियों को क्रिप्टो पेमेंट स्वीकार करने और स्थिर फिएट मुद्रा में कन्वर्ट करने में मदद मिलती है, जिससे दामों में उतार-चढ़ाव का जोखिम कम हो जाता है।
  • तेज लेनदेन – क्रिप्टोकरेंसी लेनदेन को तुरंत सत्यापित और पूर्ण करने की सुविधा देती है, जो तेजी से बढ़ती ई-कॉमर्स की दुनिया के लिए बेहद फायदेमंद है, क्योंकि अब उन्हें स्टैण्डर्ड बैंकिंग समय पर निर्भर नहीं होना पड़ता हैं।
  • कम्पेटेबिलिटी – क्रिप्टोकरेंसी पेमेंट गेटवे सभी ऑपरेटिंग सिस्टम के साथ कम्पेटेबल हैं, जिससे व्यापारियों के लिए अपने डिवाइस पर क्रिप्टो पेमेंट सेट करना आसान हो जाता है। इसे सेटअप करने के लिए कोडिंग के ज्ञान की आवश्यकता नहीं है, और ना ही डिवाइस में संशोधन या अपग्रेड की भी कोई आवश्यकता नहीं होती है।
  • वैश्विक पहुंच – क्रिप्टो पेमेंट गेटवे वैश्विक पहुंच प्रदान करते हैं, जिससे किसी भी स्थान से कोई भी व्यक्ति और व्यवसाय क्रिप्टो लेनदेन कर सकते हैं, जो कि ट्रेडिशनल बैंकिंग नेटवर्क की सीमाओं या क्रॉस-बॉर्डर ट्रांजेक्शन की उच्च लागत के बिना एक विशाल ग्राहक आधार को आकर्षित कर सकता है।
  • गुमनामी की गारंटी – क्रिप्टो प्रेमी बैंकों के अविश्वास के कारण भुगतान में गुमनामी चाहते हैं। क्रिप्टो पेमेंट गेटवे जैसे डिसेंट्रलाइज्ड सिस्टम KYC जैसी प्रक्रियाओं को समाप्त कर, संवेदनशील डेटा का संरक्षण प्रदान करते हैं। क्रिप्टो पेमेंट ऑप्शन की पेशकश ग्राहकों की निजता को बढ़ाती है और व्यवसायों को उनकी गुमनामी से लाभ उठाने की सुविधा देती है, जो डिजिटल दुनिया में गोपनीयता के मूल्य को प्रदर्शित करती है।

क्रिप्टो पेमेंट प्रोसेसर के नुकसान

Cons of Crypto Payment Processors

क्रिप्टोकरेंसी के कई फायदे है, लेकिन वेबसाइटों पर क्रिप्टो से लेनदेन करते समय होने वाली संभावित बाधाओं को जानना भी जरुरी है।

  • अनिश्चित नियामक – क्रिप्टोकरेंसी तेजी से विकसित हो रहे कानूनी माहौल में काम करती है, जिसके प्रत्येक देश में नियम अलग-अलग होते हैं। एक निश्चित नियामक की कमी क्रिप्टो पेमेंट्स स्वीकार करने वाले व्यवसायों के लिए एक चुनौती पैदा कर सकती है, क्योंकि कुछ क्षेत्राधिकार उन्हें स्वीकार करते हैं जबकि अन्य में प्रतिबंधित हैं।
  • उपभोक्ता समझ की कमी – क्रिप्टोकरेंसी लोकप्रियता हासिल कर रही है, लेकिन उनका व्यापक रूप से अपनाया जाना ग्राहकों को क्रिप्टो में भुगतान करने से रोक सकता है, जिससे व्यवसायों का बाजार संभावित रूप से सीमित हो सकता है। उपयोगकर्ता-अनुकूल प्लेटफ़ॉर्म इस कमी को पूरा करते हुए क्रिप्टो भुगतान प्रक्रिया को सरल बनाने में मदद कर सकते हैं।
  • तीसरे पक्ष की मध्यस्थता – क्रिप्टोकरेंसी को शुरू में बिचौलियों को बायपास करने के लिए डिज़ाइन किया गया था, लेकिन भुगतान गेटवे डिसेंट्रलाइजेशन से समझौता करते हैं क्योंकि व्यापारियों को पेमेंट सर्विस प्रोवाइडर्स पर भरोसा करना और उन पर निर्भर रहना पड़ता है।
  • अस्थिरता का जोखिम – अधिकांश प्रोवाइडर्स जोखिम को कम करने के लिए तत्काल फिएट कन्वर्जन की पेशकश करते हैं, लेकिन कन्वर्जन से पहले या कन्वर्जन के दौरान होने वाले कीमत में उतार-चढ़ाव को पूरी तरह से खारिज नहीं किया जा सकता है।

फिएट पेमेंट प्रोसेसिंग कैसे काम करती है

फिएट पेमेंट गेटवे, राष्ट्रीय मुद्राओं को भुगतान के रूप में स्वीकार करते है, लेनदेन की जानकारी डिजिटल या भौतिक रूप से वेब-आधारित सेवाओं और API के माध्यम से भेजते है। जो कि ई-कॉमर्स और रिटेल ग्राहकों के बीच काफी लोकप्रिय हैं।

फिएट पेमेंट गेटवे, थर्ड-पार्टी सर्विस प्रोवाइडर होते है जो ग्राहक और व्यापारी के बीच मध्यस्थ के रूप में कार्य करते है, ये क्रेडिट कार्ड डिटेल्स जैसी भुगतान सम्बंधित जानकारी प्रोसेस करते है और व्यापारी के खाते में धनराशि स्थानांतरित करते है।

फिएट पेमेंट गेटवे, जैसे पेपाल, स्ट्राइप और स्क्वायर, का व्यापक रूप से ऑनलाइन खरीदारी के लिए और व्यक्तिगत रूप से उपयोग किया जाता है। ये इलेक्ट्रॉनिक पेमेंट प्रोसेसिंग सिस्टम के लिए महत्वपूर्ण बैक-एंड टेक्नोलॉजी हैं, जो वेब पेज इंटरफेस को डिजाइन करने, बनाने और बैंक को ग्राहक लेनदेन प्रोसेसिंग सम्बंधित जानकारी भेजने के लिए जिम्मेदार होते हैं।

फिएट-क्रिप्टो और क्रिप्टो-फिएट में लेनदेन

फिएट प्रोसेसर फिएट को क्रिप्टो और क्रिप्टो को फिएट में बदलने के लिए भी जिम्मेदार होते हैं। ये पारंपरिक और डिसेंट्रलाइज़्ड लेनदेन के बीच एक ब्रिज के रूप में कार्य करते हैं। फिएट गेटवे उपयोगकर्ताओं को पारंपरिक फिएट मुद्राओं के साथ-साथ डिजिटल मुद्राएँ खरीदने की भी सुविधा देते है। 

इस प्रक्रिया को क्रिप्टो ऑन-रैंप भी कहा जाता है। इसकी विपरीत प्रक्रिया, जिसे ऑफ-रैंप कहा जाता है, के लिए क्रिप्टो-टू-फिएट गेटवे की आवश्यकता होती है। ऑन-रैंप सेवाएं व्यापक रूप से ऑनलाइन उपलब्ध होती हैं और बैंक ट्रांसफर, क्रेडिट और डेबिट कार्ड पेमेंट और पेपाल जैसे विभिन्न भुगतान विकल्प प्रदान करती हैं।

On-Ramp Flow

फिएट-टू-क्रिप्टो पेमेंट गेटवे सोल्यूशन का मुख्य लक्ष्य उपयोगकर्ताओं को फिएट मनी के बदले क्रिप्टो खरीदने की सुविधा देना है। इस प्रक्रिया में फिएट मनी को क्रिप्टो में कन्वर्ट करना शामिल होता है, जिसमें उपयोगकर्ता के फिएट वॉलेट से उनके क्रिप्टो वॉलेट में पैसे का आदान-प्रदान भी शामिल होता है। इस पूरी प्रक्रिया के तीन सरल चरण होते हैं।

  1. उपयोगकर्ता फिएट ऑनरैंप का उपयोग करके सेवा/dApp में प्रवेश करते है और क्रिप्टो खरीदने की प्रक्रिया शुरू करने के लिए परचेस आर्डर भरते है। जिसमे उन्हें मुद्रा, खरीदने के लिए क्रिप्टो की मात्रा और अपना वास्तविक क्रिप्टो वॉलेट एड्रेस निर्दिष्ट करना होता हैं।
  2. फिर उपयोगकर्ता लेनदेन को पूरा करने के लिए सबसे उपयुक्त भुगतान विधि का चयन करते है, जैसे वीज़ा, मास्टरकार्ड, Google Pay, Apple Pay या कोई अन्य स्थानीय भुगतान विकल्प।
  3. खरीदारी तुरंत पूर्ण होती है। हालाँकि, ब्लॉकचेन लेनदेन में कुछ मिनटों से लेकर एक घंटे तक का समय लग सकता है।.

फिएट ऑनरैंप सेवाएं क्रिप्टोकरेंसी से जुड़े व्यवसायों के लिए महत्वपूर्ण हैं, जो कि ट्रैडिशनल लेनदेन और वेब3 दुनिया के बीच अंतर को कम करती हैं। ये खरीदारी को सरल बनाते हैं, साथ ही उपयोगकर्ताओं को एक सकारात्मक यूजर एक्सपीरियेंस प्रदान करती हैं। 

क्रिप्टो ऑन-रैंप वित्तीय लेनदेन के लिए एक सुरक्षित और पारदर्शी मंच भी प्रदान करता है, जिसमें उन्नत सुरक्षा उपाय उपयोगकर्ताओं को हैकर्स और धोखाधड़ी से बचाते हैं। यह कंप्लायंस और ऑडिटिंग के लिए भी विस्तृत रिकॉर्ड प्रदान करते हैं। क्रिप्टो ऑन-रैंप क्रिप्टोकरेंसी इकोसिस्टम के लिए बहुत महत्वपूर्ण हैं, ये उपयोगकर्ताओं द्वारा क्रिप्टो खरीदने का सबसे आसान और सबसे सुविधाजनक तरीका प्रदान करने के लिए व्यवसायों को उपकरण और संसाधन प्रदान करते हैं।

फिएट पेमेंट प्रोसेसरों के फायदे और नुकसान

फिएट पेमेंट प्रोसेसर फाइनेंसियल सिस्टम का एक महत्वपूर्ण हिस्सा होते हैं, और क्रिप्टो भुगतान प्रोसेसर की तरह इनके भी कई फायदे हैं।

फायदे

आइए फिएट पेमेंट प्रोसेसर के उपयोग करने के कुछ प्रमुख लाभों पर नज़र डालते।

  • आसान फिएट-टू-क्रिप्टो कन्वर्जन – फिएट गेटवे पीयर-टू-पीयर लेनदेन के जोखिमों को समाप्त करते है। ऑन-रैंप के माध्यम से क्रेडिट या डेबिट कार्ड, बैंक ट्रांसफ़र और वायर ट्रांसफ़र सहित कई भुगतान विकल्पों की एक विस्तृत श्रृंखला के साथ डिजिटल करेंसी की तत्काल और आसान खरीदारी की पेशकश की जाती हैं, जिससे उपयोगकर्ताओं को उनकी आवश्यकताओं के मुताबिक एक विकल्प मिल जाता है। 
  • क्रिप्टोकरेंसी को अपनाने की संभावना – क्रिप्टो ऑन-रैंप स्थानीय मुद्राओं को क्रिप्टोकरेंसी में बदलने के लिए पहुंच और सुविधा प्रदान करते हैं, जिससे संभावित रूप से इसे अपनाने में वृद्धि होती है। यह नए लोगों या उन लोगों के लिए विशेष रूप से फायदेमंद है जिनके पास ट्रेडिशनल एक्सचेंजों तक पहुंच नहीं है। ऑन-रैंप स्थानीय करेंसी को क्रिप्टोकरेंसी में बदलने की सुविधा भी देते हैं, जिससे क्रिप्टो उपयोगकर्ताओं की संख्या बढ़ती है और वैध भुगतान और वैल्यू स्टोर के रूप में क्रिप्टोकरेंसी को मुख्यधारा में स्वीकृति को बढ़ावा मिलता है।

नुकसान

ढ़ेरों फायदों के बावजूद, फिएट पेमेंट गेटवे में कुछ कमियां भी हैं जिनके बारे में भुगतान प्रोसेसिंग चुनते समय विचार किया जाना चाहिए।

  • फीस – क्रिप्टो ऑन-रैंप अक्सर फ्लैट या प्रतिशत शुल्क के रूप में अपनी सेवाओं, जैसे डिपाजिट, विथड्रावल और कन्वर्जन के लिए हिडन फीस लेते हैं।
  • सुरक्षा सम्बन्धी जोखिम – फिएट ऑन-रैंप सेवाएं साइबर और भौतिक हमलों सहित सुरक्षा उल्लंघनों के प्रति काफी संवेदनशील होती हैं। हैकर्स गेटवे सिस्टम तक पहुंचने और संवेदनशील डेटा या फंड चुराने के लिए फ़िशिंग, मैलवेयर और रैंसमवेयर अदि का उपयोग करके सकते है।

क्रिप्टो और फिएट पेमेंट प्रोसेसरो में अंतर

फिएट पेमेंट गेटवे एक ऐसा पेमेंट गेटवे है जो भुगतान के लिए केवल फिएट मुद्राएं (राष्ट्रीय मुद्राएं) ही स्वीकार करता है, जबकि क्रिप्टो पेमेंट गेटवे दोनों प्रकार की मुद्राओं को स्वीकार करता है। यह वेब-बेस्ड सर्विसेज या पेमेंट टर्मिनल के माध्यम से लेनदेन की जानकारी प्रसारित करता है।

Difference Between Crypto And Fiat Transactions

फिएट पेमेंट गेटवे एक ऐसा पेमेंट गेटवे है जो भुगतान के लिए केवल फिएट मुद्राएं (राष्ट्रीय मुद्राएं) ही स्वीकार करता है, जबकि क्रिप्टो पेमेंट गेटवे दोनों प्रकार की मुद्राओं को स्वीकार करता है। यह वेब-बेस्ड सर्विसेज या पेमेंट टर्मिनल के माध्यम से लेनदेन की जानकारी प्रसारित करता है।

  • फीस – क्रिप्टो बिचौलियों की अनुपस्थिति के कारण अपेक्षाकृत कम नेटवर्क फीस के साथ तेज़ और अंतर्राष्ट्रीय पेमेंट प्रदान करता है। फिएट पेमेंट प्रोसेसर अक्सर फीस अधिक लेते हैं साथ ही, विथड्रावल, डिपाजिट जैसे कार्यों के लिए हिडन फीस भी हो सकती है।
  • गति – क्रिप्टो पेमेंट अपने तात्कालिक ट्रांसफर के लिए प्रसिद्ध हैं। ऐसा इसलिए संभव है क्योंकि ब्लॉकचेन ग्राहक या व्यापारी की लोकेशन से मुक्त होती है जो तेजी से लेनदेन को सक्षम बनाता है। क्रिप्टोकरेंसी, उसके डिज़ाइन, प्रोटोकॉल आदि के आधार पर, भुगतान होने के कुछ ही सेकंड या दस मिनट तक में स्टोर पर पहुंच सकता है। थर्ड पार्टी की मध्यस्थता के कारण फिएट लेनदेन में आमतौर पर कई दिनों तक का समय लग सकता है और यह बैंकों के वर्किंग टाइम पर भी निर्भर होता है।
  • सुरक्षा – ब्लॉकचेन तकनीक निजता और पारदर्शिता प्रदान करती है, जिससे केवल वॉलेट एड्रेस वाला ही कोई व्यक्ति लेनदेन का विवरण और धन हस्तांतरण देख सकता है। फिएट प्रोसेसिंग सर्विसेज साइबर और भौतिक हमलों के प्रति असुरक्षित होती हैं जो संवेदनशील जानकारी से समझौता कर सकती हैं और धन की हानि का कारण बन सकती हैं। इसके अलावा, ब्लॉकचेन लेनदेन इर्रिवर्सेबल होते हैं और रिटेल व्यापारियों को फिएट पेमेंट गेटवे के लिए चार्जबैक जैसी धोखाधड़ी से बचाते हैं, जिनसे काफी नुकसान होता हैं।
  • थर्ड पार्टी इन्वॉल्वमेंट – फ़िएट पेमेंट के विपरीत, क्रिप्टो भुगतान डिसेंट्रलाइज़्ड होते हैं, जिससे थर्ड पार्टी की भागीदारी की आवश्यकता समाप्त हो जाती है। हालाँकि, ब्लॉकचेन तकनीक की गुमनाम प्रकृति और थर्ड पार्टी द्वारा लेनदेन सत्यापन की अनुपस्थिति के कारण आपराधिक वित्तीय गतिविधियाँ भी हो सकती हैं।  
  • वैश्विक स्वीकृति – फिएट भुगतान के विपरीत, जो दुनिया भर में व्यापक और स्वीकृत हैं, डिजिटल करेंसी और क्रिप्टो भुगतान मिस्र या चीन जैसे कुछ देशों में प्रतिबंधित और अवैध माने जाते हैं। 

निष्कर्ष

ऑर्डर इनफार्मेशन को प्रोसेस करने और व्यापारियों तक भुगतान पहुंचने के लिए पेमेंट गेटवे महत्वपूर्ण होते हैं। क्रिप्टो पेमेंट प्रोसेसर महत्वपूर्ण हैं क्योंकि ढ़ेरों लोग और व्यापारी क्रिप्टोकरेंसी पेमेंट स्वीकार करते हैं। परन्तु, फ़िएट पेमेंट आज भी लेनदेन का सबसे व्यापक और सामान्य तरीका बना हुआ है। इसलिए, गेटवे का चयन करते समय दोनों भुगतान विकल्पों का ज्ञान होना और क्रिप्टो और फिएट पेमेंट प्रोसेसर के बीच अंतर को समझना आवश्यक है।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

फिएट वॉलेट क्या होता है और यह क्रिप्टो वॉलेट से कैसे अलग है?

क्रिप्टो वॉलेट डिसेंट्रलाइज़्ड डिजिटल मुद्राओं को मैनेज करते हैं, जबकि फिएट वॉलेट ट्रेडिशनल, सरकार द्वारा विनियमित मुद्राओं को मैनेज करते हैं।

क्रिप्टो वॉलेट से फिएट वॉलेट में कैसे ट्रांसफर करें?

क्रिप्टोकरेंसी को फिएट करेंसी में बदलने के लिए एक प्रतिष्ठित एक्सचेंज चुनें, उसमे खाता बनाएं, अपनी पहचान सत्यापित करें, प्लेटफ़ॉर्म से क्रिप्टोकरेंसी ट्रांसफर करें, इसे फिएट मुद्रा के बदले में बचे, और इसे बैंक खाते या डेबिट कार्ड से निकाल लें।

क्रिप्टोकरेंसी की तुलना में फिएट मनी के क्या फायदे हैं?

फिएट मनी आम तौर पर क्रिप्टोकरेंसी की तुलना में अधिक स्थिर होती है, अधिकतर मुद्राओं में अस्थिर क्रिप्टो बाजार की तुलना में मूल्यों में बेहद कम परिवर्तनशीलता देखने मिलती है।

Linkedin

द्वारा लिखित

Anna Churakovaलेखक
Linkedin

द्वारा समीक्षित

Tamta Suladzeप्रमुख लेखक

पिछले लेख

Getting Ready for The Highly Anticipated FMPS 2024
Bringing Our Payment Solutions To The Finance Magnates Pacific Summit
10.06.2024
Suiting Up For Crypto Discussions at The Massive Token 2049
Token 2049 Singapore is Around The Corner – Here Are Our Plans
10.06.2024
B2BinPay Suits Up for Money Expo India 2024!
B2BinPay is Good to Go at Money Expo India 2024! 
05.06.2024
B2BiPay v20 update
B2BinPay v20 – TRX स्टेकिंग और बेहतर ब्लॉकचेन सपोर्ट के साथ फ़ंक्शनैलिटी में सुधार